अभी दिवाली फेस्टिवल सीजन बहुत ही जोरो पर चल रहा है. इस पर ऑनलाइन शॉपिंग कम्पनियाँ ग्राहकों को  शानदार ऑफर दे रही है. इसके चलते फ्लिपकार्ट और अमेज़न जैसी बड़ी शॉपिंग कम्पनियो पर रोज करोड़ो के सामान आर्डर होते है. 

इन सब के बीच हमे बहुत सी महत्वपूर्ण बातो का भी ध्यान रखना चाहिए. जब भी आप ऑनलाइन शॉपिंग करे तब इन 5 बातो का विशेष रूप से ध्यान रखे ताकि आप ऑनलाइन फ्रॉड या किसी भारी नुकसान से बच सके. 

यह बात हम इसलिए कह रहे है कि फेस्टिवल सीजन के दौरान ऑनलाइन फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह सक्रिय हो जाते है और आपको आपके पैसो के बदले नकली प्रोडक्ट थमा देते है. 

साल 2018 के सर्वे के अनुसार एक तिहाई ग्राहकों को नकली सामान मिला। ऐसे में अगर आप भी इस समय शॉपिंग करने की सोच रहे है तो खरीददारी करते समय इन 5 चीजों की एतिहात बरतनी बहुत ही जरूरी हो जाती है.

सुरक्षित ऑनलाइन शॉपिंग कैसे करे?

वेबसाइट की लिंक चेक करे 

ऑनलाइन खरीददारी करते समय सबसे पहली बात जो आपको ध्यान में रखनी होती है वो है वेबसाइट की लिंक की अच्छे से जाँच करना कि वेबसाइट असली है या नकली. आजकल बहुत से फ्रॉड इसी वजह से होते है. क्युकी फ्रॉड करने वाले असली वेबसाइट से मिलता जुलता नाम और लोगो रख लेते है, साथ ही उनकी वेबसाइट डिज़ाइन भी वैसी ही रख लेते है. इस वजह से कई लोग इसमें धोखा खा जाते है. 

आजकल यह फ्रॉड सोशल मीडिया पर ज्यादा देखा जा रहा है. सोशल मीडिया पर आपको इन फ्रॉड वेबसाइट के  Ads भी देखने को मिल जायेंगे. जिसमे 50,000 रूपये की चीज को 5000 में बेचा जा रहा है. कई ग्राहक इस झांसे में फंस भी जाते है और अपना पैसा गंवा बैठते है. 

इसलिए फेक वेबसाइट की पहचान करने के लिए इनके url को जरूर चेक करे. असली वेबसाइट का यूआरएल https से शुरू होता है. जबकि नकली वेबसाइट का यूआरएल http से शुरू होता है. साथ ही उस वेबसाइट के मुख्य नाम पर जरूर ध्यान दे कही उसकी स्पेलिंग में तो कोई गलती तो नहीं है. 

ऑफिसियल वेबसाइट से करे मिलान 

ऑनलाइन शॉपिंग में जो भी प्रोडक्ट होते है उनका मॉडल नंबर होता है. उनके मॉडल नंबर को दूसरी ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर चेक करे और इसकी डिटेल्स हासिल करे. अगर आप ऑनलाइन मोबाइल खरीद रहे है तो बॉक्स पर लिखे IMEI नंबर को देखे और इसको खरीदने से पहले इस ब्रांड की ऑफिसियल वेबसाइट से मिलाये. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ई-कॉमर्स साइट कई प्रोडक्ट्स की बिक्री थर्ड पार्टी के द्वारा कराती है, ऐसे में असली और नकली प्रोडक्ट की पहचान करना मुश्किल हो जाता है. 

प्रोडक्ट की चेकिंग करे 

प्रोडक्ट खरीददारी धोखाधड़ी से ग्राहक बचाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक को और FMCG कम्पनिया प्रोडक्ट पर एक खास तरह का QR और होलोग्राम लगाने लगी है. जिसके जरिये असली और नकली प्रोडक्ट की पहचान आसानी से की जा सकती है. इसके आलावा इनकी पहचान करने के लिए फ़ूड रेगुलेटर FSSAI के Smart Consumer ऐप्प की मदद ले सकते है, जिसे आप आसानी से प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते है. इस ऐप्प में आपको QR स्कैन करने और QR नंबर दर्ज करने का ऑप्शन मिलता है. इससे आप उस प्रोडक्ट की मेनुफेक्चरिंग जानकारी का पता लगा सकते है. इससे असली और नकली प्रोडक्ट की पहचान हो जाएगी. 

ज्यादा डिस्काउंट वाले प्रोडक्ट हो सकते है नकली 

फ्रॉड करने वाले लोग ग्राहकों को अपने चंगुल में फंसाने के लिए भारी डिस्काउंट देने की बात करते है. लेकिन जब कोई इनके प्रोडक्ट को खरीदता है तो या तो वो पैसा लेकर भाग जाता है या फिर उनको गलत प्रोडक्ट हाथ में थमा देते है. जिसके बाद वो कुछ भी नहीं कर सकते. ऐसी डील्स से बचने के लिए इस तरह के लालच को अपने मन में ना लाये तो ही बेहतर है. हां, अगर यह बात ई-कॉमर्स की ऑफिसियल साइट से की गयी हो तो आप उस पर विश्वास कर सकते है. जिसमे अगर आप फ्रॉड के शिकार होते भी है तो उसकी जिम्मेदारी कंपनी की होगी. अगर दूसरे सोर्स से इस तरह के ऑफर आपको मिलते है तो इन पर कभी विश्वास ना करे. 

रैंटिंग और कस्टमर रिव्यु को देखे 

अगर खरीदने से पहले आपको प्रोडक्ट की गुणवत्ता की जाँच करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है उस प्रोडक्ट की रैंटिंग और रिव्यु. इन्हे देखने के बाद आप आश्वस्त हो सकते है की आपको वह प्रोडक्ट खरीदना है या नहीं. इसमें आपको प्रोडक्ट कैसा है इसकी जानकारी अच्छे से मिल जाएगी. इसलिए कोई भी प्रोडक्ट खरीदे उससे पहले ग्राहकों के रिव्यु जरूर पढ़ने चाहिए. रेंटिग की बात करे तो 3.8 से 5 के बीच वाले प्रोडक्ट ही आपको खरीदने चाहिए.